Skip to main content
Innerpage slider

कौशल विकास

कौशल विकास

एनएचएसआरसीएल ने सूरत में एशिया की सबसे बड़ी जियोटेक्निकल इन्वेस्टिगेशन लैब में इंजीनियरिंग छात्रों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए

राष्ट्रीय कौशल विकास कार्यक्रम को गति देने के लिए, एनएचएसआरसीएल, भू तकनीकी जांच प्रयोगशाला में सिविल इंजीनियरिंग के छात्रों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित कर रहा है, जिसे मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल परियोजना के लिए सूरत में मैसर्स एलएंडटी द्वारा स्थापित किया गया है। (मैसर्स एलएंडटी वापी और अहमदाबाद के बीच सिविल कार्यों का निष्पादन कर रहा है)।

प्रयोगशाला को एशिया की सबसे बड़ी भू-तकनीकी प्रयोगशाला माना गया है और इसने इंजीनियरों, तकनीशियनों और कुशल मजदूरों सहित लगभग 900 (क्षेत्र में 500 और प्रयोगशालाओं में 400) व्यक्तियों के लिए रोजगार पैदा किया है। यह प्रयोगशाला अत्याधुनिक जांच उपकरणों से लैस है। प्रयोगशाला 20 भू-तकनीकी इंजीनियरों और 188 प्रयोगशाला तकनीशियनों के माध्यम से प्रतिदिन 3500 परीक्षण कर सकती है।

प्रशिक्षण के दौरान, छात्रों को विभिन्न भू-तकनीकी जांच के लिए उपयोग किए जा रहे उपकरणों से परिचित कराया जाता है। व्याख्यान के अलावा, प्रयोगशाला परीक्षण के माध्यम से मिट्टी की विशेषताओं को निर्धारित करने के लिए प्लेट लोड टेस्ट, पाइल लोड टेस्ट जैसे फील्ड टेस्ट भी प्रदर्शित किए जाते हैं। सरदार वल्लभ भाई राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एसवीएनआईटी) सूरत के 35 छात्रों के पहले बैच ने इस प्रयोगशाला में प्रशिक्षण प्राप्त कर लिया है।

एमएएचएसआर परियोजना ने अपने पुराने उपकरणों के उन्नयन में स्थानीय जियोटेक जांच सेटअप को भी बढ़ावा दिया है। वलसाड, सूरत, वडोदरा, आनंद और अहमदाबाद में लगभग 15 प्रयोगशालाओं ने परियोजना के लिए आवश्यक अंतरराष्ट्रीय मानकों का पालन करने के लिए अपने बुनियादी ढांचे को उन्नत किया है। परियोजना स्थलों पर पूरी तरह से स्वचालित और अर्ध-स्वचालित भू- परीक्षण मशीनों को तैनात किया गया है।

Students from Sardar Vallabh Bhai National Institute of Technology (SVNIT) attending a training session at Asia’s largest Geotechnical Lab in Surat Students from Sardar Vallabh Bhai National Institute of Technology (SVNIT) attending a training session at Asia’s largest Geotechnical Lab in Surat
हाई स्पीड रेल प्रशिक्षण संस्थान

एनएचएसआरसीएल द्वारा हाई स्पीड रेल प्रशिक्षण संस्थान का निर्माण वडोदरा मैं कार्यरत है। यह संस्थान भारत में भविष्य के सब उच्च गति रेल कर्मचारियों के लिए प्रशिक्षण का मैदान होगा। प्ररिक्षण संस्थान रेल के डब्बे एवं इंजन, नागरिक एवं धावन पथ रखरखाव, विद्युत् संकेत एवं दूरसंचार स्टेशन एवं ट्रेन चालाक दल सहित विभिन विषयों में लगभग ३५०० कर्मचारियों को प्रशिक्षित करेगा। अत्याधुनिक संस्थान बारह कक्षा, तीन सभागार, छः अभ्यास कक्ष, दो बड़े भंडारण कक्ष, २५० सीट सभागार और अन्य आधुनिक निर्माण सुविधाओं से लैस एक सबसे आधुनिक हाई-स्पीड रेल प्रशिक्षण संसथान होगा। एचएसआरटीआई में सभी प्रशिक्षुओं के लिए ठहरने के लिए सुविधा उपलब्ध है। आधुनिक स्मार्ट, डिजिटल एवं आभासी वास्तविकता कक्ष एवं प्रयोगशालाओं के माध्यम से प्रशिक्षण दिया जायेगा। ड्राइवर, कंडक्टर एवं संचालन नियंत्रण कर्मचारियों को सिम्युलेटर आधारित प्रशिक्षण प्रदान किया जायेगा। आगामी/पुनः अभ्यास प्रशिक्षण, फेरबदल/दोहरा व्यापार प्रशिक्षण, सुरक्षा/आपातकालीन प्रतिक्रिया प्रशिक्षण, ग्राहक देखभाल एवं नरम कौशल प्रशिक्षण सहित विभिन श्रेणियों में विशेष प्रशिक्षण मॉडल तैयार किये जा रहे हैं। संचालन एवं रखरखाव से संभंधित प्रशिक्षण एवं कार्यों की सुविधा के लिए जापान में ३६० कर्मचारियों के एक दाल को प्रशिक्षित किया जायेगा। इसके बाद ३६० में से ७८ कर्मचारी संभंधित डोमिन में मुख्य दक्षताओं को विकसित करने के लिए 'ऑन दी जॉब' प्रशिक्षण से गुज़रेंगे। कर्मचारियों के लिए कुल प्रशिक्षण अवधि विभिन्न विशेषग्यता में तीन से बारह महीने तक होगी।. एचएसआरटीआई का काम तीन अनुबंध पैकेजों जैसे की टीआई-१, टीआई-२ एवं टीआई-३ में विभाजित है।

Bungalow

हाई स्पीड रेल प्रशिक्षण संस्थान